मसूरी में रहता था माउन्ट एवरेस्ट की खोज करने वाला ये शख्स.

मसूरी में रहता था माउन्ट एवरेस्ट की खोज करने वाला ये शख्स.

देहरादून स्थित मंसूरी में टूरिस्ट प्लेस के लिए यहाँ का जोर्जे एवेरेस्ट बेहद ही फेमस है. यहाँ प्रतेक साल लाखो लोग दूर-दूर से घुमने के लिए आते हैं. और यहाँ के मौसम और आस-पास की सुन्दरता का लुत्फ़ उठाते हैं.

लेकिन क्या आपको पता है कि इस जगह का नाम जोर्ज एवेरेस्ट किसने रखा और कैसे इस जगह का नाम जोर्ज एवेरेस्ट पड़ गया. तो चलिए आज हम आपको  इसी के बारे में विस्तार से बताएंगे की आखिर कब और कैसे इस जगह का नाम जोर्ज एवेरेस्ट रखा गया.

कर्नल सर जोर्ज एवरेस्ट एक वेल्स सर्वेक्षक और भौगोलिक थे. इन्होने भारत में 1832 से 1843 तक बतौर सर्वेयर जनरल कार्य किया और हिमालय की उची चोटियों की खोज भी करी. और आज के समय में जिस जगह पर इनका घर बना हुआ है वह मंसूरी में स्थित है और उस जगह को जोर्ज एवरेस्ट के नाम से भी जाना जाता है.

यह वही इन्सान है जिसने हिमालय की सबसे उची चोटी माउन्ट-एवरेस्ट की खोज करी थी. जिसके बाद सर जोर्ज एवरेस्ट के नाम पर ही उस जगह का नाम रखा गया. रॉयल एस्ट्रोनॉमिकल सोसायटी ने 1848 में उनका यह सम्मान उनके सर्वे में योगदान के लिए किया था. और दुनिया भर के मानचित्रों में इन हिमालयन चोटियों को चिन्हित भी करा. जिसका श्रय सिर्फ और सिर्फ सर जोर्ज एवरेस्ट को ही जाता है.

सर जोर्ज एवरेस्ट का घर मंसूरी से लगभग 6 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है. ज्यादातर लोग इस जगह के महत्व और इसके बारे में कम ही जानते हैं. जिसकी वजह से सर जोर्ज का घर एवं प्रयोगशाला अब खंडहर बन चुकी है. सरकार की लापरवाही और अनदेखी की वजह से अब यह खंडहर ही रह गया है. लेकिन कुछ सालों से इस जगह को आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ने अपने नेत्रत्व में रखा है. और इस जगह को एक मयूसिंय्म बनाने की तैयार में लगी हुई है. जिससे आने वाले पर्यटक इस जगह के महत्व और सर जोर्ज एवेरेस्ट के कार्यों के बारे में जान सके जो की इतिहास और भूगोलिक नज़रिए से बेहद महत्वपूर्ण है.

इस जगह को लगभर 188 वर्ष हो गए हैं और जोर्ज एवरेस्ट के घर को बने हुए लगभग 200 साल  होने को हैं. अपने कार्य काल के दौरान जोर्ज एवरेस्ट यही से अपना कार्य किया करते थे. और अपनी प्रयोगशाला में ही अपने भौगोलिक करों को पूरा किया करते थे.

आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी कैसी लगी हमको कमेंट कर के ज़रूर बताये. और हमारी सभी जानकारियों की अपडेट पाने के लिए हमारे न्यूज़ लैटर को सब्सक्राइब ज़रूर करें. ताकि आने वाली नई जानकारी आप तक पहुच सके. हमे आपकी प्रतिक्रिया का बे-सब्री से इंतजार रहेगा.