तो इसलिए हैदराबाद को जाना जाता है नवाबी खान-पान के लिए.

तो इसलिए हैदराबाद को जाना जाता है नवाबी खान-पान के लिए.

नवाबी शहर में मिलेगा आपको नवाबी खान पान "हैदराबाद"

यदि आप खान पान के अधिक शोकिन है और आप नॉन-वेज फ़ूड पसंद करते है तो आपने हर दुसरे इन्सान के ज़बान से हैदराबाद की बिरयानी के बारे में ज़रूर सुना होगा. दरअसल हैदराबाद को नवाबों का शहर कहा जाता है. और खान-पान को लेकर भारत का ये शहर हैदराबाद काफी मशहूर है. और हैदराबादी कबाब, हैदराबादी बिरयानी यहाँ की सबसे मशहूर डिश है. हर गली और हर दुकान मे आपको लज़ीज़ खाना खाने को मिल जायेगा. नवाबी शहर होने के साथ साथ यहाँ खाने में भी आपको नवाबी अंदाज़ और जायका दिखेगा.

इतिहास की नज़रों से

लगभग 1591 में क़ुतुबशाही वंश में पाँचवें, मुहम्मद कुली क़ुतुबशाह ने पुराने गोलकोंडा से कुछ मील दूर “मूसा नदी” {जो आज मूसी नदी के नाम से जाना जाता है} के किनारे हैदराबाद नामक नया नगर बनाया. हैदराबाद में स्वतंत्र आसफजाही वंश की स्थापना, मुहम्मदशाह (मुग़ल बादशा) द्वारा दक्कन में नियुक्त सूबेदार चिनकिलच खां (निजामुलमुल्क) ने 1724 ई. में की.  मुगल बादशाह मुहम्मशाह ने 1722 ई. में चिनकिलिच खां को दक्कन के छः सूबों की सूबेदारी सौंपी थी, जिसका मुख्यालय औरंगाबाद में था.

चिनकिलिच खां द्वारा 1724 में स्वतंत्र हैदराबाद राज्य की स्थापना के बाद मुगल सम्राट मुहम्मदशाह ने उसे आसफशाह की उपाधि प्रदान की. शूकरखेङा के युद्ध में चिनकिलिच खां ने मुगल सूबेदार मुबारिज खां को पराजित किया था. 1748 में चिनकिलिच खां की मृत्यु के बाद हैदराबाद में कोई ऐसा योग्य निजाम नहीं था जो अंग्रेजों से टक्कर ले सकता।हैदराबाद भारतीय राज्यों में ऐसा प्रथम राज्य था जिसने वेलेजली की सहायक संधि के तहत एक आश्रित सेना रखना स्वीकार किया.

हैदराबाद भारत के राज्य तेलंगाना तथा आंध्रप्रदेश की संयुक्त राजधानी है, जो दक्कन के पठार पर मूसी नदी के किनारे स्थित है. कहा जाता है कि किसी समय में इस ख़ूबसूरत शहर को क़ुतुबशाही परम्परा के पाँचवें शासक मुहम्मद कुतुब शाह ने अपनी प्रेमिका भागमती को उपहार स्वरूप भेंट किया था. हैदराबाद को ‘निजाम का शहर’ तथा ‘मोतियों का शहर’ भी कहा जाता है.

इसलिए नवाबी खान पान से जुड़ा है हैदराबाद

दरअसल अपने इतिहास काल के समय में मुग़ल बादशा और महाराजाओं ने यहाँ shasan किया. और अपने शासन काल के दौरान अलग अलग राजा ने अपने हुकूमत के हिसाब से अपने लिए विशेष प्रकार के व्यंजनों को बनवाया और उसको अपनी सल्तनत के मशहूर भोजन में शुमार किया. जिसकी वजह से यहाँ हैदराबाद में आपको मुगलाई खान-पान से लेकर भारतीय भोजन का जायका चखने को मिल जयेगा.

यदि आप हैदराबाद जाएँ तो यहाँ के हरे-भरे कबाब और ज़येकेदार बिरयानी ज़रूर खाए. दुनिया भर में हैदराबाद न सिर्फ अपनी बिरयानी के लिए जाना जाता है बल्कि यहाँ खाने की अलग अलग कलाएं भी आपको देखने को मिलेगी. जिसको बेहद शानदार तरीके से आपकी थाली में परोसा जाता है.